e-Magazine

ऑक्सफोर्ड विवि छात्रसंघ अध्यक्षा की ‘साइबर बुलींग’ के दोषियों पर कार्रवाई में देरी निंदनीय: अभाविप

छात्रशक्ति डेस्क

प्रतिष्ठित ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की छात्रसंघ अध्यक्षा रश्मि को जबरन इस्तीफा दिलवाने पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। अभाविप ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि ऑक्सफोर्ड छात्रसंघ की पहली भारतीय महिला अध्यक्ष निर्वाचित होकर इंग्लैंड स्थित ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में इतिहास बनाने वालीं रश्मि सामंत को पूर्व में उनके द्वारा की गई एक पोस्ट के आधार पर उन्हें बलपूर्वक पद से इस्तीफा दिलवाना तथा पूरे मामले से अलग उनके माता-पिता की धार्मिक आस्था पर वि.वि. के एक प्राध्यापक द्वारा घृणित टिप्पणी की अभाविप कड़ी आलोचना करती हैं और विश्वविद्यालय प्रशासन से दोषियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की माँग करती हैं।
किसी भी विश्वविद्यालय में छात्रसंघ के चुनाव की एक प्रक्रिया होती है जिसके अनुसार प्रतिनिधि चुन कर आते हैं। ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय में रश्मि सावंत को बलपूर्वक पद-मुक्त कर इस चुनाव की लोकतांत्रिक प्रक्रिया को तार-तार किया है तथा अपने चिर परिचित नस्लीय भेदभाव का भी परिचय दिया है। किसी भी छात्र प्रतिनिधि का उसके पद से इस्तीफा मात्र इसलिए दिलवाना की वह किसी विशेष धर्म का अनुसरण करता है, वहाँ की स्थानिक संस्कृति से नही आता यह बिल्कुल निंदनीय कदम है। ऐसी घटनाओं पर विराम लगना चाहिये जो अभिव्यक्ति की आजादी पर भाषण अवश्य देते है परंतु अन्य की अभिव्यक्ति एवं धार्मिक आस्था के प्रति निष्ठुर हैं।
अभाविप की राष्ट्रीय महामंत्री निधि त्रिपाठी ने कहा, “ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय में हुई ऐसी घटना बेहद शर्मनाक है तथा विश्वविद्यालय प्रशासन का इस घटना पर चुप रहना अत्यंत निंदनीय है। देश के कुछ कथित रूप से बुद्धिजीवी अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन करने वाले लोग आज रश्मि सामंत पर चुप क्यों है ? रश्मि की इस अन्याय के विरुद्ध लड़ाई में भारत के छात्र-छात्राओं का समर्थन रश्मि सावंत के साथ हैं।”

READ  आम चुनावों के परिणाम भारतीय जनमानस द्वारा राष्ट्रवाद तथा सशक्त नेतृत्व‌ के पक्ष में बड़ा संदेश: अभाविप
×
shares