e-Magazine

कृषि अपार संभावनाओं का क्षेत्र, एग्रीविजन के राष्ट्रीय सम्मेलन में बोले केंद्रीय मंत्री बाल्यान

छात्रशक्ति डेस्क

नई दिल्ली । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के आयाम एग्रीविजन के राष्ट्रीय सम्मेलन में केंद्रीय पशुपालन, डेयरी व मत्स्य राज्य मंत्री डॉ संजीव बाल्यान ने कहा कि हमारे देश के कृषि क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ऐसी योजनाएं हर रोज ला रही है जिससे कृषि क्षेत्र को बढ़ावा मिल रहा है और हमारा देश कृषि क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने की ओर बढ़ रहा है। आज हमारा देश कृषि उत्पादों का निर्यात करने में विश्व के शीर्ष देशों में शामिल है और कृषि उत्पादों के आयात का प्रतिशत कम हुआ है। यह संकेत है कि भारत आने वाले कुछ सालों में कृषि क्षेत्र में पूर्णतः आत्मनिर्भर बनने वाला है।

एग्रीविजन के दो दिवसीय 6वें राष्ट्रीय सम्मेलन का शुभारंभ शुक्रवार को दिल्ली के पूसा कैम्पस में मुख्य अतिथि डॉ संजीव बालियान,केंद्रीय पशुपालन, डेयरी एवं मतस्य राज्यमंत्री तथा डॉ त्रिलोचन महापात्र, सचिव कृषि अनुसंधान वशिक्षा विभाग एवं महानिदेशक,भा.कृ.अनु.प., की अध्यक्षता में तथा अन्य अतिथियों की उपस्थिति में किया गया।

सम्मेलन के पहले दिन एग्रीविजन के राष्ट्रीय पदाधिकारी सहित देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति गण समेत देश भर से 350 कृषि शोधार्थी व कृषि वैज्ञानिक उपस्थित हुए। सम्मेलन में “प्राकृतिक कृषि-आधुनिक तकनीकी : समन्वय एवं समावेश” विषय पर चर्चा हुई एवं अतिथियों द्वारा सम्बोधन किया गया।

भारतीय अर्थव्यवस्था का मेरूदंड है कृषि : श्रीनिवास

सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए अभाविप के राष्ट्रीय सह -संगठन मंत्री श्री श्रीनिवास ने कहा कि कृषि हमेशा से भारतीय अर्थव्यवस्था का मेरूदंड है और इसे मजबूती प्रदान करने का काम एग्रीविजन कर रहा है। आदिकाल में कृषि हमारे अर्थव्यवस्था की नींव रह चुका है। कालांतर में अंग्रेजों के आने के बाद हमारे कृषि क्षेत्र को बहुत क्षति पहुंची है। आधुनिकता के इस दौर में हमें तकनीकी के साथ सामंजस्य बना कर प्राकृतिक कृषि को बढ़ावा देना होगा तथा हमारे नीति निर्धारकों को कृषि केंद्रित नीति बनानी होगी ताकि भारत कृषि क्षेत्र में आत्मनिर्भर बन सके।

READ  अभाविप की मांग पर बीएसएससी ने बढ़ाई आवेदन की अंतिम तिथि, स्नातक पास के लिए अवसर

मंच पर उपस्थित अभाविप के राष्ट्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि, “विद्यार्थी परिषद आज से ही नहीं बल्कि अपने स्थापना के दिन से ही कृषि क्षेत्रों के विकास तथा उत्थान के लिए प्रयासरत है। एग्रिविज़न अपने स्थापना से ही कृषि क्षेत्रों में कार्यरत है तथा भारत को कृषि क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने की ओर अग्रसर है।”

एग्रीविजन राष्ट्रीय संयोजक शुभम पटेल ने बताया कि, “दो दिवसीय सम्मेलन में विभिन्न तकनीकी सत्रों का आयोजन किया गया है जिसमें कृषि क्षेत्र के विभिन्न विषयों के विशेषज्ञ प्रतिभागियों का मार्गदर्शन करेंगे। रोल मॉडल सत्र के अंतर्गत देश में कृषि क्षेत्र में अपने कौशल व मेहनत से सफल उद्यमियों द्वारा सम्मेलन में उपस्थित युवा छात्रों को अपना अनुभव साझा करते हुए कृषि क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने तथा अधिक से अधिक युवाओं को कृषि को अपने व्यवसाय के रूप में चुनकर आत्मनिर्भर भारत अभियान में अपना योगदान देने जैसे विषयों पर उनका मार्गदर्शन भी किया। दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का समापन कल होगा जिसके मुख्य अतिथि श्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री, भारत सरकार रहेंगे।

×
shares