e-Magazine

जयपुर : सिद्धार्थन के परिजनों को शीघ्र न्याय दिलाने की मांग को लेकर सड़क पर उतरी अभाविप, एसएफआई को बताया रक्तपिपासु

छात्रशक्ति डेस्क

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद जयपुर प्रांत के विभिन्न राज्य विश्वविद्यालय परिसर जिसमें  राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर, महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय भरतपुर, शेखावाटी विश्वविद्यालय सीकर, लोहिया कॉलेज चुरु, मत्स्य विश्वविद्यालय अलवर पर सैकड़ो की संख्या में विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं के द्वारा केरल में एसएफआई से जुड़े अपराधियों द्वारा केरल के वायनाड में स्थित केरल वेटनरी एंड एनिमल साइंस यूनिवर्सिटी के द्वितीय वर्ष के छात्र जेएस सिद्धार्थन को बुरी तरह प्रताड़ित, मारपीट कर आत्महत्या को मजबूर करने के मामले में प्रदर्शन करते हुए घटना की निष्पक्ष जांच कर आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

अभाविप जयपुर प्रान्त मंत्री अभिनव सिंह ने कहा कि वामपंथी छात्र संगठन एसएफआई रक्तपिपासु है, इसका लंबा आपराधिक इतिहास रहा है। उन्होंने कहा कि केरल के शैक्षणिक परिसर सीपीएम संरक्षित अपराधियों की हिंसक गतिविधियों का अड्डा बन गए हैं। केरल में सिद्धार्थन के साथ एसएफआई से जुड़े अपराधियों द्वारा जघन्य रैगिंग के परिणामस्वरूप आत्महत्या मामले ने एसएफआई तथा वामपंथी छात्र संगठनों से शैक्षणिक संस्थानों को खतरे को पुनः उजागर कर दिया है।

READ  Jamia Admin is on a witch hunt of students : ABVP
×
shares