e-Magazine

JNU हिंसा : दिल्ली पुलिस के जांच में जेएनयू अध्यक्ष आईशी घोष समेत नौ के नाम

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में पांच जनवरी को हुए हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेस कर अभी तक के जांच की जानकारी दी । पुलिस के मुताबिक 5 जनवरी को पेरियार हॉस्टल में किये गये हिंसा में जेएनयू हिंसा में जेएनएसयू अध्यक्ष आईशी घोष भी शामिल हैं । दिल्ली पुलिस ने फोटो के साथ कुछ लोगों के नाम साझा किया  जिनमें सुशील कुमार (पूर्व छात्र), पंकज मिश्रा (माही मांडवी हॉस्टल), आइशी घोष (जेएनयूएसयू अध्यक्ष), भास्कर विजय, सुजेता तालुकदार, प्रिय रंजन, योगेंद्र भारद्वाज,पीएचडी-संस्कृत, विकास पटेल  और सोनल सामंता नाम के लोगों की पहचान की गई है ।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि एआईएसएफ, एसएफआई, एआईएसए और डीएसएफ के लोगों ने पांच जनवरी को पेरियार हॉस्टल में जाकर हमला किया। उसके बाद पुलिस वहां पहुंची । तीन जनवरी से लेकर पांच जनवरी के तक के घटना के बारे में बताते हुए कहा कि तीन जनवरी को स्टूडेंट फ्रंट ऑफ इंडिया, ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन, ऑल इंडिया स्टूडेंट्स असोसिएशन और डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन के मेंबर्स ने सेंट्रलाइज रजिस्ट्रेशन सिस्टम को रोकने के लिए जबर्दस्ती सर्वर रूम में घुसे और कर्मचारियों को बाहर निकाल दिया। इसके बाद सर्वर को बंद कर दिया। इसके बाद सर्वर को किसी तरह ठीक किया। 4 जनवरी को फिर उन्होंने सर्वर ठप करने की कोशिश की। दोपहर में पीछे शीशे के दरवाजे से कुछ अंदर घुसे और उन्होंने सर्वर को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया। इससे पूरा रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस रुक गया। इन दोनों मामले में एफआईआर दर्ज की गई है। इन छात्रों के विरोध की वजह से आम लोगों को परेशानी हो रही है। कल कनॉट प्लेस में लोगों को इनके प्रदर्शन की वजह से दिक्कतें हुईं। जब भी हम इन लोगों से कनेक्ट करने की कोशिश करते हैं तो ये लोग कानून का उल्लंघन करते। एक तरह से हमारी तफ्तीश अभी शुरू हो रही है, लेकिन अफवाहों की वजह से हमें पहले ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ी। घटना के बारे में पुलिस ने वार्ता में बताया कि  जेएनयू के साबरमती हॉस्टल के पास मौजूद टी पॉइंट के पास पीस मीटिंग हो रही थी जिस दौरान कुछ नकाबपोश लोगों ने हाथ लाठी डंडा लेकर साबरमती हॉस्टल पर हमला किया । हम जेएनयू में चार दिन से लगातार जा रहे हैं फिर भी रास्ता भूल जाता हूं बाहरी लोगों को रास्ते का पता कैसे चल सकता है .  कुछ लोगों लोगों को हम नोटिस भेजने वाले हैं ।

READ  काशी : 25 मार्च से खुद भूखे – प्यासे रहकर जरूरतमंदों की सेवा कर रहे हैं अभाविप कार्यकर्ता

अभी तक हुए जांच में खुलासा

  • चार छात्र संगठन रजिस्ट्रेशन के खिलाफ थे।
  • पेरियार हॉस्टल में मारपीट की गई। बाहर वालों के लिए जेएनयू के अंदर जाना आसान नहीं।
  • साबरमती हॉस्टल में पीस मीटिंग हो रही थी अचानक से एक ग्रुप आया और उसके बाद हॉस्टल में घुसकर मारपीट की।
  • नकाबपोश जानते थे कि किस-किस रूम में जाना है।
  • 5 जनवरी को 30 बजे मारपीट की गई। हिंसा के दौरान कुछ वाट्सएप ग्रुप बनाए गए।
  • वायरल वीडियो से कुछ लोगों की पहचान की गई।
  • नकाबपोशों की पहचान पुलिस ने की।
  • चार जनवरी को गार्ड को भी चोंटे आई ।
  • सुशील कुमार (पूर्व छात्र), पंकज मिश्रा (माही मांडवी हॉस्टल), आइशी घोष (जेएनयूएसयू अध्यक्ष), भास्कर विजय, सुजेता तालुकदार, प्रिय रंजन, योगेंद्र भारद्वाज (पीएचडी संस्कृत), विकास पटेल और सोनल सामंता नाम के लोगों की पहचान की गई है ।

 

×
shares