e-Magazine

#67thABVPConf : युवा पुरस्कार प्राप्तकर्ता कार्तिकेयन ने कहा मै अभिभूत हूँ और मेरे पास शब्द नहीं हैं

यशवंत राव केलकर युवा पुरस्कार विजेता कार्तिकेयन गणेशन ने कहा  कि मैं अभिभूत हूँ और मेरे पास शब्द नहीं हैं कि ये पुरस्कार मुझे क्यों दिया गया।  मैं जहां से आता हूँ वहां कोई सुविधाएं नहीं हैं पर अभाविप मुझे ढूंढने में सफल हुआ।  मै 15 वर्षों तक अनाथालय में रहा और अब उसी अनाथालय का निदेशक हूँ। मेरे जीवन का उद्देशय दिव्यांगजन के लिए काम करने का है और यह पुरस्कार मुझे अपने कार्य को और बेहतर करने के लिए प्रेरित करेगा। मुझे समझ आया है कि जब तक आप खुद को साबित नहीं कर लेंगे तब तक आपके कार्यों की सराहना कोई और नहीं करेगा।

कौन हैं कार्तिकेयन गणेशन, जिन्हें मिला वर्ष 2021 का प्रा. यशवंतराव केलकर युवा पुरस्कार

बौद्धिक और विकासात्मक दिव्यांगजनों व समाज के वंचितों की सेवा में अपना सर्वस्व समर्पण करने वाले कार्तिकेय गणेशन को प्रतिष्ठित प्रा० यशवंतराव केलकर पुरस्कार प्रदान किया गया।  यह पुरस्कार उन्हें 67वें राष्ट्रीय अधिवेशन के मुख्य अतिथि नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने प्रदान किया। ‌उन्होंने समाज के वंचितों को जीने, सीखने, काम करने और आय उत्पन्न करने का मौका देने के लिए बड़े पैमाने पर काम किया है। कार्तिकेयन गणेशन ने दिव्यांगजनों को  जैविक खेती और वयस्क स्वतंत्र जीवन प्रशिक्षण के माध्यम से उनका आत्म पुनरोत्थान करने व उन्हें आत्मनिर्भर बनने का सुअवसर प्रदान किया है।

विल्लुपुरम (तमिलनाडु) के मूल निवासी कार्तिकेयन गणेशन को अनाथालय में काम करते हुए ज्ञात हुआ कि भारत में बौद्धिक और विकासात्मक दिव्यांग जनों की संख्या 16 लाख है (जनगणना 2011) जिनमें से लगभग 75% ग्रामीण क्षेत्रों में रहते हैं। कम रोजगार दर और उच्च जीवन व्यय के साथ, वे भारत के सबसे गरीब समूहों में से एक हैं। इस दयनीय स्थिति को बदलने का संकल्प श्री कार्तिकेयन ने लिया और इसलिए सृष्टि फाउंडेशन का जन्म हुआ। वर्ष 2013 में श्री कार्तिकेयन ने सृष्टि विलेज फाउंडेशन बनाने के लिए 10 एकड़ जमीन खरीदी। उस समय, भूमि अनुपजाऊ और बंजर थी। तब से, समुदाय के सदस्यों के अथक परिश्रम से वर्तमान समय में उपजाऊ भूमि में बदल दिया गया है जो विविध क्षमताओं वाले लोगों द्वारा प्रबंधित कई पर्यावरण-अनुकूल परियोजनाओं का केंद्र है। श्री कार्तिकेयन ने 10 एकड़ भूमि पर एक समावेशी और समग्र वातावरण बनाया है जिसे सृष्टि गांव कहा जाता है। सृष्टि फाउंडेशन तीन अग्रणी परियोजनाएं चलाता है: सृष्टि गांव, सृष्टिविशेष विद्यालय और सृष्टि फार्म अकादमी। इसके साथ कई सामुदायिक समर्थन और पर्यावरण परियोजनाओं को भी सृष्टि द्वारा संचालित किया जाता है। सृष्टि ग्राम समुदाय मॉडल के माध्यम से, बौद्धिक और विकासात्मक दिव्यांग जन वयस्क स्वतंत्र जीवन कौशल और नौकरी कौशल को अनुभवात्मक तरीके से सीखते हैं। यह उन्हें मुख्यधारा के समाज में एक स्वतंत्र जीवन जीने में मदद करता है।

READ  जबलपुर में होगा अभाविप का 67 वां राष्ट्रीय अधिवेशन

प्रा. यशवंतराव केलकर पुरस्कार

यह पुरस्कार वर्ष 1991 से प्रा. यशवंतराव केलकर की स्मृति में दिया जाता है, जिन्हें संगठन का शिल्पकार कहा जाता है और संगठन विस्तार में उनकी भूमिका के लिए याद किया जाता है। यह पुरस्कार अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और विद्यार्थी निधि न्यास की एक संयुक्त पहल है, जो छात्रों की बेहतरी और शिक्षा के क्षेत्र में काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

पुरस्कार का उद्देश्य युवा सामाजिक उद्यमियों के काम को उजागर करना, उन्हें प्रोत्साहित करना और ऐसे सामाजिक उद्यमियों के प्रति युवाओं का आभार व्यक्त करना तथा युवा भारतीयों को सेवा कार्य के लिए प्रेरित करना है। इस पुरस्कार में ₹ 1,00,000/- की राशि, प्रमाण पत्र एवं स्मृतिचिन्ह समाविष्ट हैं।

×
shares