e-Magazine

जालियांवाला बाग की बलिदानी मिट्टी

आश्विनी शर्मा

आज 13 अप्रैल है, वीर भूमि पंजाब में वैशाखी का पर्व मनाया जा रहा है वहीं दूसरी ओर गुरुओ की बलिदानी परम्परा के वाहक खालसा पन्थ की स्थापना का दिन भी। आज के ही दिन गुरु गोविन्द सिंह जी ने अपने पंच प्यारो को अमृत का पान करवाया और स्वयं भी अमृत चखा दिन निश्चित ही विशेष है | यह दिन मुझ जैसे लाखो युवाओं को एक मंजर का स्मरण करवा देता है वह  बलिदानी गाथा जिसने भगत सिंह, मदन लाल और उधमसिंह जैसे क्रांति पुरुषों का प्रारब्ध लिखा  जिससे धमनियों में आक्रोश रक्त  की गति को तेज कर देता है महावीर प्रसाद मधुप की पंक्तिया मेरे इन भावों को व्यक्त करने की शायद कोशिश कर सके उन्होंने लिखा है –

आया तेरह अप्रैल दिवस फिर लेकर सुधियों की माला।

था देशवासियों को जिस दिन जल्लाद बना जलियांवाला॥

अमृतसर की उस धरती को था कंपित किया तबाही ने।

अत्याचारों का नृत्य किया जब खुल कर तानाशाही ने॥

रो उठीं बाग की दीवारें हर दिशा ख़ौफ़ से डोली थी।

ज़ालिम डायर ने जब खेली ख़ूँखार ख़ून की होली थी।

गुमनाम शहीदों की गणना ख़ुद मौत न कर पाई होगी।

निष्ठुरता भी चीखी होगी, निर्ममता चिल्लाई होगी॥

 

जलियांवाला बाग…वीभत्स,  निर्मम, ह्रदयविदारक हत्याकांड ! अंग्रेजी हुकूमत के दिए सदैव चुभने वाले दंशो में से एक। इस बाग की दीवारें मानो गोलियों से छलनी अपना वक्ष खोलकर दिखाती है और कहती है देखो हमारे भी घाव,  हमपर चली हुई गोलियां फिर स्मरण आता है इन दीवारों का भी स्वाधीनता में योगदान। जलियांवाला बाग पर यूं तो लिखने और कहने को बहुत कुछ है वेदना, दुख, पीड़ा, किस्से, कथा और भी बहुत कुछ…। पर जब भी यह खौफनाक किस्सा सुनाई भी पड़ता है तो जेहन में उस वीभत्स मंजर की कल्पना चित्रित हो जाती है अभी आगरा में आयोजित विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन में जलियांवाला बाग हत्याकांड की शताब्दी वर्ष पर प्रदर्शनी बनाई गई । गोलियों से छलनी दीवारें ओर लाशों से अटा कुआं भी प्रदर्शनी को जीवंत रूप देने की पुरी कोशिश कर रहा था ओर सबसे अहम बात उस प्रदर्शनी स्थल पर रखे वहां की पवित्र मिट्टी के कलश ।

READ  #JanajatiGauravDiwas : भारत का गौरव है जनजाति समाज जीवन दर्शन

पवित्र मिट्टी के कलश देशभर के कैम्पसों में भेजने की योजना इस शताब्दी वर्ष में विद्यार्थी परिषद ने की है जो इतिहास कार्य पाठ्यक्रम के माध्यम से इस देश की भावी पीढ़ी को विरासत रूप मिलना था इन कलशों में सिमटी हुई बलिदान गाथा से शायद यह कुछ हद तक हो सकेगा । आजादी आंदोलन के लिखे गए इतिहास में सेनानियों को न्याय नही दिया गया कुछ परिवारों ओर व्यक्तियों के महिमामंडन में पोथिया भर दी गयी तो कुछ के नाम के अक्षर आज भी इंतजार में है । ब्रिटिश हुकूमत के सामने जान हथेली पर लेकर खड़े होने वाले अनेक क्रांतिकारी ओर उनकी कहानियां है जिन्होंने हुकूमत के दांत खट्टे किये है। जलियांवाला बाग हत्याकांड की पृष्ठभूमि का सम्बंध प्रथम विश्वयुद्ध के समय अंग्रेजी हुकूमत के शुरू हुए विरोध से है ।

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान पंजाब के क्षेत्र में ब्रिटिशों का विरोध कुछ अधिक बढ़ा जिसे भारत प्रतिरक्षा विधान (1915) लागू कर के कुचल दिया गया था। उसके बाद 1918 में एक ब्रिटिश जज सिडनी रॉलेट की अध्यक्षता में एक सेडीशन समिति नियुक्त की गई थी जिनको यह पता लगाने की ज़िम्मेदारी दी गयी कि भारत में, विशेषकर पंजाब और बंगाल में ब्रिटिशों का विरोध किन शक्तियों की सहायता से हो रहा था। इस समिति के सुझावों के अनुसार भारत प्रतिरक्षा विधान (1915) का विस्तार कर के भारत में रॉलट एक्ट लागू किया गया था, जो आजादी के लिए चल रहे आंदोलन पर रोक लगाने के लिए था, जिसके अंतर्गत ब्रिटिश सरकार को और अधिक अधिकार दिए गए थे जिससे वह प्रेस पर सेंसरशिप लगा सकती थी, नेताओं को बिना मुकदमें के जेल में रख सकती थी, लोगों को बिना वॉरण्ट के गिरफ़्तार कर सकती थी, उन पर विशेष ट्रिब्यूनलों और बंद कमरों में बिना जवाबदेही मुकदमा चला सकती थी इसके विरोध में पूरा भारत उठ खड़ा हुआ और देश भर में लोग गिरफ्तारियां दे रहे थे। देश के अधिकांश शहरों में 30 मार्च और 6 अप्रैल को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया गया। हांलाकि इस हड़ताल का सबसे ज़्यादा असर पंजाब के ही अमृतसर, लाहौर, गुजरांवाला और जालंधर शहर में देखने को मिला। लाहौर और अमृतसर में हुई जन-सभाओं में तो पच्चीस से तीस हज़ार तक लोग शामिल हुए.9 अप्रैल को राम नवमी के दिन लोगों ने एक मार्च निकाला। राम नवमी के मौक़े पर निकले इस मार्च में हिंदू तो थे ही मुस्लिम भी शामिल हुए. मुस्लिमों ने तुर्की सैनिकों जैसे लिबास पहन रखे थे। बड़ी संख्या में लोग तो जमा हुए ही थे लेकिन जनरल डायर और उनके प्रशासन को सबसे अधिक चिंता हिंदू-मुस्लिम एकता देखकर हुई।

READ  JNU : बैठक कर रहे अभाविप कार्यकर्ताओं के साथ वामपंथी छात्रों ने की मारपीट

13 अप्रैल 1919 जलियांवाला बाग़ में उस दिन रोलेट एक्ट के विरोध में इसी उद्देश्य की एक सभा जारी थी फिर क्या हुआ, आज हर किसी को मुंहज़बानी पता है. 13 अप्रैल को लगभग शाम के साढ़े चार बज रहे थे, जनरल डायर ने जलियांवाला बाग में मौजूद क़रीब 25 से 30 हज़ार लोगों पर गोलियां बरसाने का आदेश दे दिया. वो भी बिना किसी पूर्व चेतावनी के. ये गोलीबारी क़रीब दस मिनट तक बिना सेकंड रुके होती रही. जनरल डायर के आदेश के बाद सैनिकों ने क़रीब 1650 राउंड गोलियां चलाईं. गोलियां चलाते-चलाते चलाने वाले थक चुके थे हजारों लोग शहीद हुए और घायल भी ! रक्त की नदी और लाशों से अटा हुआ बाग इस मंजर को देखकर आखों में आंसुओ के स्थान पर खून उतर जाता है ऐसे ही आक्रोश ने अनेको क्रांतिकारियों को जन्म दिया तो दूसरी ओर भगत ओर उधम को फाँसी को रस्सी चूमने का साहस भी दिया।

पराधीनता की बेड़िया तोड़ने में अपना बलिदान देने वाले असंख्य सेनानियो के रक्त से पवित्र मिट्टी के कलश प्रदेशो के प्रतिनिधियों को सौपते समय अभाविप के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री माननीय श्रीनिवास जी का उदबोधन ने मन व मानस पर इस घटना के चित्र उकेर दिए । “शहीदों का बलिदान याद रखेगा हिंदुस्तान” जैसे नारे भी लगे । आज के छात्र को अपने बलिदानियों की परंपरा से जोड़ना चाइए इस बहुप्रतीक्षित उद्देश्य को यह पवित्र माटी की केम्पस तक कि यात्रा निश्चित ही पूरा करेगी। इस मिट्टी का कण-कण पवित्र तो है ही साथ ही अग्नि के समान ओजवान भी है । यह माटी उन सभी बलिदानियों की गाथा गाती है जिन्होंने स्वाधीन भारत का स्वप्न देखा , यह नन्हे भगत को क्रांतिकारी भगतसिंह बनने का आक्रोश देती है , यही वह माटी है जो यौवन में चढ़ते उधमसिंह के सीने में आग की तरह जलती है और बदला लेने पर मजबूर करती है साथ ही हंसकर फंदे पर झूलने का साहस भी देती है । यह माटी ही है जिसे हाथ मे लेकर असंख्य युवाओ ने इंकलाब बोलकर माँ के आंचल,प्रेमिका के प्रेम ओर यौवन के आकर्षणों से मुंह मोड़ लिया । इसी पवित्र माटी को मस्तक पर चंदन की भांति सजाकर स्वाधीनता के यज्ञ में आहुतियां लगी है । मैं मानता हूं हुकूमत की गोलियों के शोर से ज्यादा बलिदानियों की बोली से इंकलाब गूंजा होगा । जलियांवाला बाग की इस पवित्र माटी का कण-कण बलिदानियों के खून से भीगा है इस माटी में संकल्प है भारत का, यह स्वाधीनता के स्वप्न है उन बलिदानियों ने देखा था ,  मित्रों स्वाधीनता के इन स्वप्नद्रष्टाओ को हमने कितना अपने जीवन में उतारा है इसकी आंतरिक  समीक्षा की आवश्यकता है बहुत बार ऐसा लगता है की हमने इन्हें केवल जयंती और पुन्यतिथियो तक ही सीमित कर दिया है, असेम्बली में बम फेक कर  भगतसिंह  निकल सकते थे पर   भगतसिंह ने अपने प्राणों की आहुति केवल इसलिए दी ताकि वे अपने विचार हम तक पंहुचा सके आज के समय की यही आवश्यकता है जन्होने हमे यह स्वाधीनता दी है उनको केवल पढ़ा ही नही जाए बल्कि आत्मसात भी किया जाए बलिदानियों को शब्द सुमन अर्पित करता हू –

आतंक, दमन, उत्पीड़न का जब चक्र चलाया जाता है।

निर्दोष मनुजता का जी भर जब रक्त बहाया जाता है॥

इतिहास गवाही देता है चलती न सदा मनमानी है।

परिवर्तन आकर ही रहता, रंग लाती हर कुर्बानी है॥

कितनी भी रात अंधेरी हो सूरज न कभी रुक पाता है।

पतझर भी आकर उपवन को नूतन वसन्त दे जाता है॥

गुलज़ार हुआ जिनके दम से गुलशन अपनी उम्मीदों का।

(लेखक अभाविप गुजरात प्रांत के प्रदेश संगठन मंत्री हैं।)

×
shares