e-Magazine

#JusticeforSidharth : अभाविप जेएनयू ने किया एसएफआई का पुतला दहन

अजीत कुमार सिंह

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को पूकोडे केरल पशु चिकित्सा एवं पशुपालन विश्वविद्यालय में द्वितीय वर्ष के छात्र सिद्धार्थ को प्रताड़ित कर हत्या करने पर एसएफआई के विरुद्ध प्रदर्शन कर पुतना दहन किया एवं मांग किया कि सिद्धार्थन की हत्या में शामिल सभी दोषियों पर कठोर कार्रवाई की जाय। अभाविप ने कहा कि   जहां अभाविप शैक्षिक परिसरों में छात्रों के मध्य आनंदमयी छात्र जीवन अभियान के साथ छात्रों के बीच तनावमुक्त शैक्षिक वातावरण बनाने पर कार्य कर रहा है वहीं एसएफआई जैसे वाम पंथी संगठन छात्रों को मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित कर रहे हैं और उनकी हत्या तक कर दे रहे हैं।  अभाविप का यह प्रदर्शन शिक्षण संस्थानों में छात्रों की सुरक्षा और तनावमुक्त वातावरण बनाने के लिए एवं एसएफआई द्वारा छात्रों पर प्रताड़ना एवं अत्याचार के विरोध में एक महत्वपूर्ण कदम है।

ज्ञात हो कि छात्र सिद्धार्थ ने 18 फरवरी को विश्वविद्यालय के छात्रावास में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। सीपीएम और एसएफआई के कार्यकर्ताओं ने सिद्धार्थ के साथ लगातार तीन दिनों तक मार पीट एवं हिंसा की और उससे मानसिक रूप प्रताड़ित किया, जिसके कारण उसे आत्महत्या करने के लिए मजबूर होना पड़ा। पुलिस द्वारा जांच में एसएफआई के 18 कार्यकर्ताओं को दोषी पाते हुए गिरफ्तारी हुई है। अभाविप ने इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना की निंदा करते हुए कहा कि शिक्षण संस्थानों में वामपंथी संगठनों द्वारा छात्रों के विरुद्ध बढ़ती हिंसा और अराजकता का एक ज्वलंत उदाहरण है। अभाविप जेएनयू ने सरकार से इस मामले की उच्च स्तरीय जांच करवाने और दोषियों को सख्त सजा देने की मांग की।

READ  न पुरूष, न महिला बल्कि परिषद का एक कार्यकर्ता राष्ट्रीय महामंत्री बना है : निधि त्रिपाठी

अभाविप जेएनयू के अध्यक्ष उमेश चंद्र अजमीरा ने कहा कि एसएफआई द्वारा छात्रों पर लगातार किए जा रहे हमले निंदनीय हैं। यह संगठन छात्रों के बीच भय, हिंसा और भेदभाव फैलाने का काम कर रहा है। हम सरकार से मांग करते हैं कि एसएफआई के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। वहीं जेएनयू इकाई मंत्री विकास पटेल ने कहा कि यह घटना शिक्षण संस्थानों में बढ़ती हिंसा और अराजकता का एक गंभीर चिंता का विषय है। सरकार को इस मामले पर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए और दोषियों को सख्त सजा देनी चाहिए।

×
shares