e-Magazine

उदयपुर : मोहनलाल सुखाड़िया विवि में अभाविप की प्रचंड जीत, एनएसयूआई का सूपड़ा साफ

अजीत कुमार सिंह

मेवाड़ की सबसे बड़ी और राजस्थान के शीर्ष विश्वविश्वविद्यालय में से एक मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को प्रचंड जीत मिली है वहीं सत्ताधारी दल कांग्रेस की छात्र शाखा एनएसयूआई को करारी हार का सामना करना पड़ा। विश्वविद्यालय के चारों पदों पर अभाविप ने जीत का परचम लहराया है, जबकि एनएसयूआई का सूपड़ा साफ हो गया। अध्यक्ष पद पर अभाविप के कुलदीप सिंह 1158 वोटों से जीते वहीं उपाध्यक्ष पद पर अभाविप विष्णु रेबारी 3960 वोटों से जीते जबकि महासचिव पद पर अभाविप कपीश जैन ने 4902 वोटों से जीत हासिल एवं संयुक्त सचिव पद पर अभाविप महिमा वैष्णव 2569 वोटों से जीतीं।

अध्यक्ष पद पर अभाविप के कुलदीप सिंह सुवावत ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी एनएसयूआइ के प्रत्याशी देव निलोत्पल सोनी को 1158 मतों से हराया। कुलदीप को 3988 मत प्राप्त हुए, जबकि देव सोनी को 2830 मिले। केंद्रीय छात्रसंघ के मतों की गिनती का काम फैकल्टी आफ मैनेजमेंट परिसर में शनिवार सुबह 10 बजे मुख्य निर्वाचन अधिकारी व रजिस्ट्रार छोगाराम देवासी व छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रोफेसर शूरवीर सिंह भाणावत के नेतृत्व में शुरू हुआ। इसके साथ ही अन्य महाविद्यालयों के छात्रसंघों की मतगणना संबंधित महाविद्यालयों में की गई। अपराह्न तीन बजे तक सभी परिणाम घोषित किए गए। मतगणना के दौरान सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए।

उपाध्यक्ष पद पर विष्णु रेबारी 3960 मतों से निर्वाचित घोषित किए गए उन्हें 4902 मत मिले। उपाध्यक्ष के अन्य दावेदार कांतिलाल मईडा को 647 और प्रियेश मेवाड़ा को 942 मत प्राप्त हुए। 434 ने नोटा का प्रयोग किया, जबकि 151 मत निरस्त किए गए। इसी तरह महासचिव के लिए कपीश जैन निर्वाचित घोषित हुए। उन्हें 5767 मत प्राप्त हुए। इसी पद पर अन्य प्रत्याशियों में शोभा लाल गुर्जर को 865 वोट मिले। 274 ने नोटा का प्रयोग किया जबकि 176 मत निरस्त हुए।

READ  अभाविप के फेसबुक पेज पर बोली दीपिका चिखलिया, अबला नहीं शक्ति की प्रतीक थीं सीता

शोध प्रतिनिधि पद पर अनुभव बर्बर 184 मत प्राप्त कर विजयी रहा। कुल 458 मतों में मोतीदान को 133 तथा राजू राम को 135 मत प्राप्त हुए। 2 मत नोटा तथा 4 मत निरस्त हुए। संयुक्त सचिव पद पर महिमा वैष्णव निर्वाचित हुई उन्हें 4552 मत प्राप्त हुए, जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंदी ललित बैरागी को 1983 मत प्राप्त हुए इसमें 352 लोगों ने नोटा का प्रयोग किया।

लगतार चौथी बार अभाविप ने लहराया जीत का परचम

मेवाड़ की सबसे बड़ी और प्रदेश के श्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में से एक प्रतिष्ठित मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय, उदयपुर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का दबदबा रहा है। सुखाड़िया विश्वविद्यालय पर लगातार चार बार से अभाविप प्रत्याशियों की जीत हो रही है। इससे पहले 2019 में हुए छात्रसंघ चुनाव में निखिल राज सिंह और 2018 में हिमांशु बागड़ी ने अभाविप से शानदार जीत दर्ज की। वहीं 2017 में भी अभाविप के भवानी शंकर बोरीवाल ने जीत दर्ज की थी।

×
shares